Cover
ब्रेकिंग
शादी के बाद एक्स ब्वॉयफ्रेंड कुशाल टंडन से टकराईं गौहर ख़ान, दिया ये रिएक्शन राहुल के इटली ट्रिप पर भाजपा का निशाना, शिवराज बोले- स्‍थापना दिवस पर ‘9 2 11’ हो गए, कांग्रेस ने दी सफाई पीएम मोदी, भाजपा के अन्य शीर्ष नेताओं ने दी श्रद्धांजलि दर्ज हुए 20 हजार से अधिक संक्रमण के नए मामले, 279 मौत; जानें अब तक का पूरा आंकड़ा उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत Delhi AIIMS में कराएंगे उपचार, कोरोना से हैं संक्रमित देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो को पीएम ने दिखाई हरी झंडी, दिल्ली में रफ्तार भरने लगी ट्रेन किसान नेता राकेश टिकैत को फोन पर मिली जान से मारने की धमकी, जांच में जुटी पुलिस Year 2021- नया साल लेकर आ रहा ग्रहण के चार गजब नजारे, पूर्ण चंद्रग्रहण से होगी शुरुआत शीतकालीन सत्र पर बोले नरोत्तम, सरकार की कोशिश कि इसे न टाला जाए, कांग्रेस पर भी साधा निशाना MP के इस गांव में न सड़क है न कोई सुविधा, खाट पर रखकर ग्रामीण 3 KM ले गए शव

लालू यादव को जेल या बेल, फैसला आज; RJD को उम्‍मीद- मिलेगा गुड न्‍यूज

पटना। Lalu Prasad Yadav Bial चारा घोटाला (Fodder Scam) के चार मामलों में सजायाफ्ता राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) की जमानत याचिका (Bail Petition) पर शुक्रवार को रांची हाईकोर्ट (Ranchi High Court) में सुनवाई होने जा रही है। लालू प्रसाद यादव ने झारखंड के दुमका कोषागार से अवैध निकासी के मामले में जमानत याचिका दाखिल की है। शेष तीन मामलों में उन्‍हें जमानत (Bail) मिल चुकी है। यदि हाईकोर्ट से उन्‍हें दुमका कोषागार के मामले में जमानत मिल जाती है तो वे जेल से बाहर आ जाएंगे। इसका बिहार की राजनीति पर बड़ा असर पड़ना तय है। आरजेडी को उम्‍मीद है कि लालू को जमानत मिल जाएगी।

चारा घोटाला के पांच में से चार मामलों में हो चुकी सजा

विदित हो कि लालू प्रसाद यादव को झारखंड में दर्ज चारा घोटाला के पांच मामलों में से चार में सीबीआइ की विशेष अदालत ने सजा दे दी है। उन मामलों की अपील रांची हाईकोर्ट में लंबित है। जबकि, डोरंडा कोषागार से संबंधित पांचवे मामले में अभी सीबीआइ कोर्ट में सुनवाई चल रही है।

तीन मामलों में मिल चुकी बेल, चौथे पर सुनवाई आज

जिन चार मामलों में लालू प्रसाद यादव को सीबीआइ कोर्ट ने सजा दी है, उनमें से तीन में हाईकोर्ट ने उन्हें आधी सजा काट लेने के आधार पर जमानत दे दी है। उन्‍होंने इसी आधार पर दुमका कोषागार के मामले में भी जमानत मांगी है। साथ ही उन्‍होंने अपने खराब स्‍वास्‍थ्‍य का भी हवाला दिया है।

सीबीआइ ने किया बेल का विरोध, दिया ये तर्क

उधर, जमानत का विरोध करते हुए सीबीआइ ने अपने जवाब में कहा है कि सीबीआइ कोर्ट ने दुमका कोषागार मामले में लालू प्रसाद यादव को दो अ-अलग मामलों में सात-सात साल की सजा सुनायी गई है। कोर्ट ने दोनों सजाएं एक साथ चलाने का आदेश नहीं दिया है। इस कारण लालू प्रसाद यादव ने दुमका कोषागार के मामले में एक दिन की सजा भी नहीं काटी है।

लालू को बेल से आरजेडी को मजबूती की उम्‍मीद

लालू प्रसाद यादव को अगर जमानत मिल जाती है तो उनके जेल से बाहर आने का रास्‍ता साफ हो जाएगा। जमानत की बंदिशें रहेंगी, लेकिन यह आरजेडी के लिए यह किसी संजीवनी से कम नहीं होगा। लालू की मौजूदगी में विपक्षी महागठबंधन (Mahagathbandhan) को मजबूती मिलने की उम्‍मीद है। आरजेडी नेता मृत्‍युंजय तिवारी व भाई वीरेंद्र कहते हैं कि उन्‍हें लालू यादव को जमानत मिलने की पूरी उम्‍मीद है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News