Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

Lakshmi Vilas Bank का इस बैंक में हो सकता है विलय, आरबीआई ने रखा प्रस्ताव

चेन्नई। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने संकटों से घिरे लक्ष्मी विलास बैंक (Lakshmi Vilas Bank) का DBS Bank India Ltd में विलय का प्रस्ताव रखा है। DBS Bank India Ltd सिंगापुर की डीबीएस बैंक लिमिटेड की पूर्व स्वामित्व वाली अनुषंगी है। आरबीआई ने लक्ष्मी विलास बैंक को 30 दिन के मोरेटोरियम के अंतर्गत रखने के बाद यह प्रस्ताव रखा है। केंद्रीय बैंक ने बैंक की वित्तीय स्थिति के बुरी तरह बिगड़ने का हवाला देते हुए बैंक के बोर्ड को अपने नियंत्रण में लेने का निर्णय किया है। इसके साथ ही केनरा बैंक के पूर्व नॉन-एग्जीक्यूटिव चेयरमैन टी एन मनोहरन को बैंक का प्रशासक नियुक्त किया गया है।

आरबीआई के मुताबिक डीबीएस बैंक, सिंगापुर एशिया के प्रमुख फाइनेंशिय सर्विसेज ग्रुप DBS Group Holdings Ltd की अनुषंगी है और इस लिहाज से बैंक बहुत मजबूत स्थिति में है।

केंद्रीय बैंक ने एक बयान में कहा है कि DBS Bank India का बैलेंस शीट बहुत अच्छा है और कंपनी के पास बहुत अच्छी पूंजी है। केंद्रीय बैंक ने बताया है कि 30 जून को बैंक की कुल नियामकीय पूंजी 7,109 करोड़ रुपये पर थी, जो 31 मार्च को 7,023 करोड़ रुपये पर थी।

रिजर्व बैंक ने इस प्रस्ताव पर सदस्यों, जमाकर्ताओं, लक्ष्मी विलास बैंक और डीबीएस बैंक के क्रेडिटर्स से सुझाव और आपत्ति दर्ज कराने को कहा है।

इससे पहले केंद्र सरकार ने लक्ष्मी विलास बैंक पर 17 नवंबर को मोरेटोरियम लगा दिया, जो 16 दिसंबर तक प्रभावी रहेगा। इसके साथ ही यह निर्णय किया गया है, जिसके तहत बैंक के ग्राहक 16 दिसंबर तक 25,000 रुपये से ज्यादा की निकासी नहीं कर पाएंगे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News