ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

नीतीश सरकार की पहली कैबिनेट बैठक खत्म, 23 से 27 नवंबर तक चलेगा विधानसभा सत्र

[responsivevoice_button voice="Hindi Female" buttontext="खबर सुनें "]

पटनाः बिहार में नवगठित नीतीश सरकार की आज पहली कैबिनेट बैठक खत्म हो गई है। मुख्यमंत्री नीतीश की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर फैसले लिए गए हैं।

नीतीश सरकार की पहली बैठक में संतोष मांझी, मंगल पांडेय, रामप्रीत पासवान समेत तमाम नवनियुक्त मंत्री पहुंचे। इस बैठक में विधानसभा सत्र के फैसले पर मुहर लगी। बिहार में 23 से 27 नवंबर तक विधानसभा सत्र चलेगा। 25 नवंबर को विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव होगा। 26 नवंबर को राज्यपाल का अभिभाषण होगा। 27 को अभिभाषण पर वाद-विवाद और सरकार का उत्तर होगा। बैठक में जीतन राम मांझी को प्रोटेम स्‍पीकर बनाने पर भी सहमति बनी। अब आगे पहले सत्र में प्रोटेम स्‍पीकर नए सदस्‍यों को शपथ दिलाएंगे। फिर स्‍पीकर का चुनाव होगा।  ऐसा माना जा रहा है कि भाजपा नेतृत्व नंदकिशोर यादव को विधानसभा का स्पीकर बना सकती है। वहीं कैबिनेट की पहली बैठक में मंत्रिमंडल के सहयोगियों के बीच विभागों का बंटवारा (Allocation of Portfolios) नहीं हो सका है।

बता दें कि सोमवार को 2 डिप्टी सीएम के साथ नीतीश कुमार ने सातवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। राजभवन में आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में राज्यपाल फागू चौहान ने नीतीश कुमार के अलावा 14 मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। इस शपथ के साथ ही नीतीश कुमार ने साबित कर दिया कि जनादेश में भले ही वो थोड़ा पिछड़ गए हों, मगर सत्ता उनकी ही है। नीतीश के कैबिनेट में अभी जदयू से 5, भाजपा से 7 और हम-वीआईपी से एक-एक मंत्री शामिल हैं। जेडीयू के विजय चौधरी, विजेंद्र यादव, अशोक चौधरी, मेवालाल चौधरी, शीला मंडल। बीजेपी के तारकिशोर प्रसाद, रेणु देवी, अमरेंद्र प्रताप सिंह, मंगल पांडे, रामसूरत राय, रामप्रीत पासवान, जीवेश मिश्रा। वीआईपी के मुकेश सहनी और हम के संतोष सुमन।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.