Cover
ब्रेकिंग
ईदगाह हिल्स बनेगी गुरुनानक टेकरी !, बीजेपी नेता बोले- हजारों सिखों ने राम मंदिर के लिए किया संघर्ष केंद्र के साथ किसान नेताओं की पांचवें दौर की वार्ता जारी, सरकार के प्रस्‍तावों पर हो रही चर्चा चोरी के आरोप में मजदूर की बर्बरता से पिटाई, जानवरों से भी बदतर बर्ताव ब्रेक फेल होने पर हुआ दर्दनाक हादसा, ट्रकों में आग लगने से जिंदा जले ड्राइवर MP में इस साल नहीं खुलेंगे 1-8वीं तक के स्कूल, 10वीं-12वीं के छात्रों के लिए नई गाइडलाइन जारी कर्नाटक: सरकार के विरोध में उतरे कन्‍नड़ समर्थक, आज बंद का आह्वान BJP National President JP Nadda का दून दौरा, लेंगे कार्यकर्ताओं के मन की थाह और प्रबुद्धजनों से फीडबैक IIT 2020 Global Summit : पीएम मोदी बोले- रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म के सिद्धांत के लिए प्रतिबद्ध है सरकार ब्राजील में पुल से नीचे गिरी बस, कम से कम 10 लोगों की मौत जमीनी विवाद मे सगे भतीजे ने घायल चाची पर चढ़ाई स्कॉर्पियो, मौत

आज फिर इतिहास रचने जा रहा है ISRO, कुछ ही देर में इस साल का पहला सैटलाइट करेगा लॉन्‍च

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन(ISRO) के लिए आज का दिन काफी अहम है। कोरोना संकट के बीच इसरो इस साल का पहला सैटलाइट कुछ ही देर में लॉन्‍च करने जा रहा है। आज दोपहर करीब 3 बजे श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्‍पेस सेंटर से इसरो
इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन ‘EOS-01’ (अर्थ ऑब्जर्वेशन सैटेलाइट) लॉन्च किया जाएगा।

PunjabKesari

इस लॉन्‍च में PSLV C49 रॉकेट अपने साथ EOS01 के रूप में प्राइमरी सैटलाइट ओर 9 दूसरे कमर्शल सैटलाइट ले जाएगा। हालांकि परीक्षण मौसम की परिस्थितियों पर भी निर्भर करेगा। इसरो के मुताबिक पोलर सैटेलाइट लांच वेहिकल (PSLV-C49) का यह 51वां मिशन होगा। इसके जरिए EOS-01 प्राइमरी सैटेलाइट के तौर पर और 9 इंटरनेशनल कस्टमर सैटेलाइट श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर से लांच होगा।

ईएस-01 एक अर्थ ऑब्जर्वेशन सैटेलाइट है। इसका प्रयोग खेती, फॉरेस्ट्री और डिजास्टर मैनेजमेंट सपोर्ट के लिए किया जाएगा। कस्टमर सैटेलाइट्स को कॉमर्शियल एग्रीमेंट के तहत लांच किया जाएगा। यह एग्रीमेंट न्यूस्पेस इंडिया लिमिटेड, डिपॉर्टमेंट ऑफ स्पेस के साथ हुआ है।

जानिए सैटेलाइट EOS-01 की खासियत

  • सैटेलाइट ‘EOS-01’, अर्थ ऑब्जरवेशन रिसेट सैटेलाइट की एक एडवांस्ड सीरीज है।
  • इस सैटेलाइट की मदद से किसी भी मौसम में पृथ्वी पर नजर रखी जा सकेगी।
  • इस सैटेलाइट में सिंथेटिक अपर्चर रडार (SAR) का इस्तेमाल किया गया है
  • जो दुश्मन की किसी भी हरकत पर नजर रखने में कारगर साबित होगी।
  • इस सैटेलाइट की मदद से बादलों के बीच भी पृथ्वी पर नजर रखी जा सकती है।
  • इसके साथ ही सैटेलाइट का इस्तेमाल खेती, फॉरेस्ट्री और बाढ़ की स्थिति पर निगरानी रखने जैसे सिविल एप्लिकेशन के लिए भी किया जाएगा।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News