Cover
ब्रेकिंग
नरोत्तम बोले- लव जिहाद कानून पर अपनी स्थिति स्पष्ट करे कांग्रेस, किसान आंदोलन पर भी साधा निशाना नेता प्रतिपक्ष को लेकर कमलनाथ वर्सेस दिग्विजय ! खुलकर सामने आई तकरार…पूरा विश्लेषण लालू यादव की जमानत पर सुनवाई टली, कस्टडी को सत्यापित करने के लिए मांगा समय अर्नब को अंतरिम बेल देने के कारणों को SC ने किया स्पष्ट, कहा- पुलिस FIR में लगाए गए आरोप नहीं हुए साबित आईआईटी और एनआईटी मातृभाषा में इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम चलाएंगे, IIT-BHU में हिंदी से होगी शुरुआत गुजरात: राजकोट के कोरोना अस्पताल में लगी भीषण आग, 5 मरीजों की मौत मुख्यमंत्री ने सिद्धू के साथ कयासबाजियों को किया खारिज, हरीश रावत के प्रयास से मिटी दूरियां डोनाल्ड ट्रंप ने मान ली अपनी हार, बोले- छोड़ दूंगा व्हाइट हाउस मतदाताओं से संपर्क स्थापित करें कार्यकर्ता: स्वतंत्र देव पाकिस्तान ने ठंडे बस्ते में डाले भारत के डोजियर, तमाम सुबूतों के बावजूद साजिशकर्ताओं पर नहीं कसा शिकंजा

6 महीने बाद श्रद्धालुओं के लिए खुला केरल का सबरीमला मंदिर, दर्शन के लिए कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट जरूरी

सबरीमला (केरल)। कोरोना वायरस महामारी के कारण छह महीने से अधिक समय तक बंद रहने के बाद केरल के प्रसिद्ध अयप्पा मंदिर को शनिवार सुबह श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया। भागवान अयप्पा के दर्शन करने के लिए मंदिर आने वाले लोगों को अपने साथ कोरोना वायरस नहीं होने संबंधी नेगेटिव रिपोर्ट साथ में लानी होगी। इसके अलावा बिना मास्क के मंगिर में प्रवेश नहीं मिलेगा।

मंदिर को मासिक पूजा के लिए शुक्रवार शाम को खोला गया था, लेकिन श्रद्धालुओं को शनिवार से मंदिर में दर्शन की अनुमति दी गयी है। बता दें कि श्रद्धालु 21 अक्टूबर तक मंदिर में पूजा-अर्चना कर सकेंगे। जिन श्रद्धालुओं के पास कोरोना वायरस की निगेटिव जांच रिपोर्ट नहीं है, उन्हें निलक्कल में रैपिड एंटीजन जांच करानी होगी।

देश में 25 मार्च को लॉकडाउन लगने के बाद से पहली बार मंदिर में श्रद्धालुओं को दर्शन की अनुमति दी गयी है। मंदिर का प्रबंधन देखने वाले त्रावणकोर देवस्वोम बोर्ड (टीडीबी) के सूत्रों ने बताया कि मंदिर को सुबह पांच बजे खोला गया। शनिवार को दर्शन के लिए डिजिटल प्रणाली के माध्यम से 246 लोगों ने बुकिंग कराई। हर दिन केवल 250 लोगों को मंदिर में दर्शन की अनुमति दी जाएगी।

दर्शन की अनुमति 10 से 60 वर्ष की आयु के उन लोगों को ही मिलेगी जिनके पास इस बात के चिकित्सा प्रमाणपत्र होंगे कि वे पहाड़ी पर स्थित मंदिर तक जाने के लिहाज से स्वस्थ हैं। महामारी के कारण श्रद्धालुओं को सन्निधानम, निलक्कल या पांबा में ठहरने की अनुमति नहीं है।

वहीं, वी के जयराजन पोट्टी को शनिवार को 16 नवंबर से एक साल के लिए यहां भगवान अयप्पा मंदिर के ‘मेल्संथी’ (मुख्य पुजारी) नियुक्त किया गया है। जबकि राजीव कुमार एमएन नमोथोथिरी को मलिकप्पुरम देवी मंदिर के मुख्य पुजारी के रूप में चुना गया है। टीडीबी के सूत्रों ने बताया कि मलयालम कैलेंडर के वृश्चिकम के महीने से शुरू होने वाले 41 दिन के मंडला सत्र की पूर्व संध्या पर वे 16 नवंबर को मुख्य पुजारी का पद संभालेंगे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News