Cover
ब्रेकिंग
शादी के बाद एक्स ब्वॉयफ्रेंड कुशाल टंडन से टकराईं गौहर ख़ान, दिया ये रिएक्शन राहुल के इटली ट्रिप पर भाजपा का निशाना, शिवराज बोले- स्‍थापना दिवस पर ‘9 2 11’ हो गए, कांग्रेस ने दी सफाई पीएम मोदी, भाजपा के अन्य शीर्ष नेताओं ने दी श्रद्धांजलि दर्ज हुए 20 हजार से अधिक संक्रमण के नए मामले, 279 मौत; जानें अब तक का पूरा आंकड़ा उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र रावत Delhi AIIMS में कराएंगे उपचार, कोरोना से हैं संक्रमित देश की पहली ड्राइवरलेस मेट्रो को पीएम ने दिखाई हरी झंडी, दिल्ली में रफ्तार भरने लगी ट्रेन किसान नेता राकेश टिकैत को फोन पर मिली जान से मारने की धमकी, जांच में जुटी पुलिस Year 2021- नया साल लेकर आ रहा ग्रहण के चार गजब नजारे, पूर्ण चंद्रग्रहण से होगी शुरुआत शीतकालीन सत्र पर बोले नरोत्तम, सरकार की कोशिश कि इसे न टाला जाए, कांग्रेस पर भी साधा निशाना MP के इस गांव में न सड़क है न कोई सुविधा, खाट पर रखकर ग्रामीण 3 KM ले गए शव

6 महीने बाद श्रद्धालुओं के लिए खुला केरल का सबरीमला मंदिर, दर्शन के लिए कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट जरूरी

सबरीमला (केरल)। कोरोना वायरस महामारी के कारण छह महीने से अधिक समय तक बंद रहने के बाद केरल के प्रसिद्ध अयप्पा मंदिर को शनिवार सुबह श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया। भागवान अयप्पा के दर्शन करने के लिए मंदिर आने वाले लोगों को अपने साथ कोरोना वायरस नहीं होने संबंधी नेगेटिव रिपोर्ट साथ में लानी होगी। इसके अलावा बिना मास्क के मंगिर में प्रवेश नहीं मिलेगा।

मंदिर को मासिक पूजा के लिए शुक्रवार शाम को खोला गया था, लेकिन श्रद्धालुओं को शनिवार से मंदिर में दर्शन की अनुमति दी गयी है। बता दें कि श्रद्धालु 21 अक्टूबर तक मंदिर में पूजा-अर्चना कर सकेंगे। जिन श्रद्धालुओं के पास कोरोना वायरस की निगेटिव जांच रिपोर्ट नहीं है, उन्हें निलक्कल में रैपिड एंटीजन जांच करानी होगी।

देश में 25 मार्च को लॉकडाउन लगने के बाद से पहली बार मंदिर में श्रद्धालुओं को दर्शन की अनुमति दी गयी है। मंदिर का प्रबंधन देखने वाले त्रावणकोर देवस्वोम बोर्ड (टीडीबी) के सूत्रों ने बताया कि मंदिर को सुबह पांच बजे खोला गया। शनिवार को दर्शन के लिए डिजिटल प्रणाली के माध्यम से 246 लोगों ने बुकिंग कराई। हर दिन केवल 250 लोगों को मंदिर में दर्शन की अनुमति दी जाएगी।

दर्शन की अनुमति 10 से 60 वर्ष की आयु के उन लोगों को ही मिलेगी जिनके पास इस बात के चिकित्सा प्रमाणपत्र होंगे कि वे पहाड़ी पर स्थित मंदिर तक जाने के लिहाज से स्वस्थ हैं। महामारी के कारण श्रद्धालुओं को सन्निधानम, निलक्कल या पांबा में ठहरने की अनुमति नहीं है।

वहीं, वी के जयराजन पोट्टी को शनिवार को 16 नवंबर से एक साल के लिए यहां भगवान अयप्पा मंदिर के ‘मेल्संथी’ (मुख्य पुजारी) नियुक्त किया गया है। जबकि राजीव कुमार एमएन नमोथोथिरी को मलिकप्पुरम देवी मंदिर के मुख्य पुजारी के रूप में चुना गया है। टीडीबी के सूत्रों ने बताया कि मलयालम कैलेंडर के वृश्चिकम के महीने से शुरू होने वाले 41 दिन के मंडला सत्र की पूर्व संध्या पर वे 16 नवंबर को मुख्य पुजारी का पद संभालेंगे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News