Cover
ब्रेकिंग
नरोत्तम बोले- लव जिहाद कानून पर अपनी स्थिति स्पष्ट करे कांग्रेस, किसान आंदोलन पर भी साधा निशाना नेता प्रतिपक्ष को लेकर कमलनाथ वर्सेस दिग्विजय ! खुलकर सामने आई तकरार…पूरा विश्लेषण लालू यादव की जमानत पर सुनवाई टली, कस्टडी को सत्यापित करने के लिए मांगा समय अर्नब को अंतरिम बेल देने के कारणों को SC ने किया स्पष्ट, कहा- पुलिस FIR में लगाए गए आरोप नहीं हुए साबित आईआईटी और एनआईटी मातृभाषा में इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम चलाएंगे, IIT-BHU में हिंदी से होगी शुरुआत गुजरात: राजकोट के कोरोना अस्पताल में लगी भीषण आग, 5 मरीजों की मौत मुख्यमंत्री ने सिद्धू के साथ कयासबाजियों को किया खारिज, हरीश रावत के प्रयास से मिटी दूरियां डोनाल्ड ट्रंप ने मान ली अपनी हार, बोले- छोड़ दूंगा व्हाइट हाउस मतदाताओं से संपर्क स्थापित करें कार्यकर्ता: स्वतंत्र देव पाकिस्तान ने ठंडे बस्ते में डाले भारत के डोजियर, तमाम सुबूतों के बावजूद साजिशकर्ताओं पर नहीं कसा शिकंजा

बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाने वाले हो जाएं सावधान, टीचर ने छात्रों के व्हाट्सएप ग्रुप में डाल दिए अश्लील वीडियो

जबलपुर: शिक्षा के मंदिर में आखिर कैसे शिक्षक बच्चों को शिक्षा दे रहे हैं, और उनकी मानसिकता कैसी है। इसका अदाजा आपको इस खबर को पढ़ने के बाद जरूर हो जाएगा। जबलपुर के एक स्कूल ने शिक्षा के मंदिर को ही शर्मसार कर दिया है। मामला भी कुछ ऐसा है जिसे बाय डिफॉल्ट नहीं कहा जा सकता यह तभी हो सकता है। तब जबकि आप शिक्षक के चरित्र से हटकर अन्य चरित्र की ओर अपना मुख मोड़ चुके होते हैं। हम बात कर रहे हैं। जबलपुर के अधारताल स्थित मिस्पा मिशन स्कूल की, जहां पर दूसरी क्लास के ऑनलाइन शिक्षा के लिए बनाए गए व्हाट्सएप ग्रुप में एक शिक्षक ने एक नहीं दर्जनों अश्लील फिल्में डाल दी। फिल्म डालते ही बच्चों में हड़कंप मच गया, तो अन्य शिक्षक भी शर्मसार हो गए। इसी बीच स्कूल के संचालक की नजर ग्रुप पर पड़ी तो वह बच्चों को धड़ाधड़ रिमूव करने लगे। लेकिन तब तक तो तस्वीर सामने आ चुकी थी। अभिभावकों ने इसका स्क्रीनशॉट बना लिया और स्कूल की करतूत सामने आ गई, कि किस तरह के शिक्षक यहां पर बच्चों को शिक्षा दी जा रही है।

दूसरी क्लास के लिए बना था ग्रुप… 
यह ग्रुप बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाने के लिए बनाया गया था। इस ग्रुप में 50 से ज्यादा बच्चे शामिल थे। बकायदा रोज बच्चे पढ़ाई भी कर रहे थे। लेकिन जब पढ़ाई के बीच में अचानक ऐसे वीडियो आने लगे तो बच्चे कुछ समझ नहीं पाए। आप अंदाजा लगा लीजिए कि दूसरी क्लास के बच्चे क्या समझ पाते, जब उन्होंने तस्वीरें देखीं तो अपने अभिभावकों को बताया, अभिभावक स्कूल भी पहुंचे और संचालक से शिकायत भी की, लेकिन संचालक मामले को दबाने की बात करते रहे। मीडिया ने भी जब उनसे बात की तो उन्होंने यही कहा कि हम फोन पर बात नहीं करेंगे आप स्कूल आ कर बात कीजिए।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News