Cover
ब्रेकिंग
दिल्ली सीमा पर डटे किसानों को हटाने पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, CJI बोले- बात करके पूरा हो सकता है मकसद UP के अगले विधानसभा चुनाव में ओवैसी-केजरीवाल बिगाड़ सकते हैं विपक्ष का गणित सावधान! CM योगी का बदला मिजाज, अब कार से करेंगे किसी भी जिले का औचक निरीक्षण संसद का शीतकालीन सत्र नहीं चलाने पर भड़की प्रियंका गांधी पाक सेना ने राजौरी मे अग्रिम चौकियों पर गोलीबारी की संत बाबा राम सिंह की मौत पर कमलनाथ बोले- पता नहीं मोदी सरकार नींद से कब जागेगी गृह मंत्री के विरोध में उतरे पूर्व सांसद कंकर मुंजारे गिरफ्तार, फर्जी नक्सली मुठभेड़ को लेकर तनाव मोबाइल लूटने आए बदमाश को मेडिकल की छात्रा ने बड़ी बहादुरी से पकड़ा कांग्रेस बोलीं- जुबान पर आ ही गया सच, कमलनाथ सरकार गिराने में देश के PM का ही हाथ EC का कमलनाथ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश, चुनाव में पैसे के गलत इस्तेमाल का आरोप

Vikas Dubey Case: बिकरू कांड की 50 पन्नों की चार्जशीट तैयार, एक हजार से ज्यादा पेज की है केस डायरी

कानपुर। बिकरू कांड में पुलिस ने चार्जशीट तैयार कर ली है। मंगलवार को एसएसपी डॉ. प्रीतिंदर सिंह ने एसपी ग्रामीण बृजेश कुमार श्रीवास्तव और विवेचकों के साथ समीक्षा भी की। तीन अक्टूबर तक चार्जशीट कोर्ट में दाखिल की जाएगी।

दो जुलाई की रात चौबेपुर क्षेत्र के बिकरू गांव में सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी गई थी। मामले में पुलिस ने कुल 43 आरोपित चिह्नत किए हैं। इनमेंं विकास दुबे समेत छह आरोपित एनकाउंटर में मारे गए। 36 आरोपित इस समय जेल में हैं, जबकि अतुल दुबे का बेटा वितुल दुबे अब तक फरार है। इस मामले में तत्कालीन एसओ चौबेपुर विनय तिवारी और हलका प्रभारी केके शर्मा भी आरोपित बनाए गए। माना गया कि दोनों ही विकास दुबे के करीबी थे, उसके लिए काम करते थे।

नियमानुसार पहली गिरफ्तारी के बाद 90 दिनों के अंदर चार्जशीट दायर करनी होती है। पहली गिरफ्तारी पांच जुलाई को हुई थी। इस तरह चार अक्टूबर से पहले पुलिस को चार्जशीट अदालत में दायर करनी होगी। इस संबंध में मंगलवार को एसएसपी ने विवेचकों के साथ बैठक कर चार्जशीट को अंतिम रूप दिया। सूत्रों के मुताबिक करीब 50 पन्नों की चार्जशीट तैयार हो गई है। इसमें सभी आरोपितों की भूमिका को साक्ष्यों के साथ बताया गया है। 1000 से ज्यादा पन्नों की केस डायरी भी तैयार की गई है। एसएसपी ने बताया कि दो-तीन दिन में चार्जशीट कोर्ट में दायर हो जाएगी।

सौरभ को सुरक्षा देने से इन्कार

विकास के खजांची जय बाजपेयी के खिलाफ न्यायिक आयोग और एसआइटी में साक्ष्य और गवाही दोनों दे रहे सौरभ भदौरिया को पुलिस ने सुरक्षा देने से इन्कार कर दिया है। संयुक्त सचिव सुनील कुमार की दी जानकारी के अनुसार सौरभ को सुरक्षा देने से संबंधित आवेदन पर एसपी दक्षिण दीपक भूकर, सीओ एलआइयू सूक्ष्म प्रकाश ने जांच की।

25 अगस्त 2020 को दी गई जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि सौरभ सुरक्षा का दुरुपयोग कर सकते हैं। सौरभ ने खुद को पुलिस सुरक्षा न दिए जाने को अदालत में चुनौती देने का फैसला किया है। उन्होंने बताया कि जो पुलिसकर्मी जय बाजपेयी के सहयोगी रहे हैं, उनकी रिपोर्ट को आधार बनाकर उन्हें सुरक्षा नहीं दी गई। इस मामले में हाईकोर्ट जाएंगे। सौरभ पहले ही पूर मामले में सीबीआइ जांच की मांग को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर कर चुके हैं।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News