Cover
ब्रेकिंग
नरोत्तम बोले- लव जिहाद कानून पर अपनी स्थिति स्पष्ट करे कांग्रेस, किसान आंदोलन पर भी साधा निशाना नेता प्रतिपक्ष को लेकर कमलनाथ वर्सेस दिग्विजय ! खुलकर सामने आई तकरार…पूरा विश्लेषण लालू यादव की जमानत पर सुनवाई टली, कस्टडी को सत्यापित करने के लिए मांगा समय अर्नब को अंतरिम बेल देने के कारणों को SC ने किया स्पष्ट, कहा- पुलिस FIR में लगाए गए आरोप नहीं हुए साबित आईआईटी और एनआईटी मातृभाषा में इंजीनियरिंग पाठ्यक्रम चलाएंगे, IIT-BHU में हिंदी से होगी शुरुआत गुजरात: राजकोट के कोरोना अस्पताल में लगी भीषण आग, 5 मरीजों की मौत मुख्यमंत्री ने सिद्धू के साथ कयासबाजियों को किया खारिज, हरीश रावत के प्रयास से मिटी दूरियां डोनाल्ड ट्रंप ने मान ली अपनी हार, बोले- छोड़ दूंगा व्हाइट हाउस मतदाताओं से संपर्क स्थापित करें कार्यकर्ता: स्वतंत्र देव पाकिस्तान ने ठंडे बस्ते में डाले भारत के डोजियर, तमाम सुबूतों के बावजूद साजिशकर्ताओं पर नहीं कसा शिकंजा

विकास दुबे की भूमि पर कब्जा कर बताई अपनी, प्रशासन अबतक नहीं सुलझा मसला

कानपुर। चौबेपुर के बिकरू गांव में पुलिस कर्मियों की हत्या के बाद मुठभेड़ में मारे गए कुख्यात विकास दुबे की सकरवां गांव स्थित दस बीघा विवादित भूमि का मामला तहसील प्रशासन एक सप्ताह बाद भी नही सुलझा सका है। एक पक्ष भूमि पर अपना कब्जा बता रहा है। वहीं प्रशासन ने राजस्व अभिलेखों से भूमि के मालिकाना हक की जांच शुरू कराई हैं।

तहसील क्षेत्र के सकरवां गांव में बिकरू निवासी कुख्यात विकास दुबे के नाम 24 बीघा खेतिहर भूमि खतौनी मे दर्ज हैं। बीते 2 जुलाई की रात दबिश के दौरान सीओ समेत आठ पुलिस कर्मियों की हत्या के बाद फरार हुए विकास दुबे को एसटीएफ टीम द्वारा मुठभेड़ में मार गिराया जा चुका है। इसके बाद अब लोगों के जेहन से विकास दुबे को खौफ निकलने लगा हैं। पुराने मामले भी सामने आने लगे हैं। कुख्यात की विवादित जमीनों पर फिर से विवाद खड़ा हो गया है।

बताया गया कि सकरवां गांव में फरवरी 2016 में विकास दुबे ने उन्नाव निवासी शशिकांत से 24 बीघा भूमि का बैनामा कराया था। इनकाउंटर में मारे जाने के बाद सकरवां के तीन लोगों ने 10 बीघा भूमि पर अपना दावा जताते हुए बीते सप्ताह एसडीएम कोर्ट में प्रत्यावेदन दिया था। इसके बाद प्रशासन को कुख्यात की जमीन पर कब्जा हो जाने की जानकारी मिली।

मामला चर्चा में आने के बाद एसडीएम ने नायब तहसीलदार को मौके पर भेज कर विवादित भूमि से फिलहाल कब्जा हटवा कर ग्राम प्रधान को सुपुर्दगी दी हैं। इधर मामले के पांच दिन बाद भी तहसील प्रशासन यह तय नहीं कर सका है कि विवादित भूमि पर असली मालिकाना हक किसका है। एसडीएम बिल्हौर पीएन सिंह ने बताया कि नायब तहसीलदार ने रिपोर्ट प्रस्तुत की है, जिसमें कब्जा करने वाले लोगों का वाद माती कोर्ट से खारिज हो चुका है। तहसीलदार बिल्हौर अवनीश कुमार ने बताया कि विवादित भूमि से कब्जा हटवा दिया गया है। विकास दुबे के घर वालों ने भूमि पर मालिकाना हक संबंधी कोई कागजात प्रस्तुत नहीं किए हैं। राजस्व टीम द्वारा पड़ताल कराई जा रही है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

AIB News